कोरोना के कारण बढ़ी इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस की डिमांड, रिकॉर्ड तोड़ हुई खरीदारी

लॉकडाउन (Lockdown) की वजह से सब कुछ ऑनलाइन हो गया है. ऐसे में मोबाइल, लैपटाप, टैबलेट की बिक्री पहले से गुना बढ़ गई है. 

कोरोना के कारण बढ़ी इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस की डिमांड, रिकॉर्ड तोड़ हुई खरीदारी

लखनऊ: दुनिया के साथ देश में कोरोना (Coronavirus) ने अपनी जगह बनाई हुई है. साल 2020 से ही कोविड महामारी (Covid-19) ने लोगों को परेशान कर रखा है. कोरोना के कारण ही देश में लॉकडाउन (Lockdown) लगाया गया था. इसके बाद धीरे-धीरे अलग-अलग राज्यों ने अपने सुविधा अनुसार लॉकडाउन को हटाया, लेकिन इस बीच सभी लोग अपने घरों में कैद हो गए थे. ऐसे में सारे काम घरों से ही ऑनलाइन (Online Work) होने लगे. इसमें ऑफिस के काम, स्कूल-कॉलेज की पढ़ाई जैसी कई चीजें इंटरनेट के माध्यम से मोबइल या लैपटाप पर की जा रही हैं. इस वजह से इन डिवाइसेज (Electronic Device) की मांग पहले के मुताबिक अचानक बढ़ गई है. 

कंप्यूटर की ज्यादा मांग
उत्तर प्रदेश में साल 2020 से ही कोरोना ने अपनी रफ्तार पकड़ी हुई है. कोरोना की दूसरी लहर (Corona 2nd Wave) में भी राज्य में कोरोना के केस (Corona Case in UP) सामने आए थें. हालांकि वर्तमान में केस में कुछ कमी आई है. जिस लेकर प्रदेश की योगी सरकार (UP Government) लगातार काम कर रही है. बीच-बीच में लॉकडाउन के कारण लोगों को वर्क फ्रॉम होम (Work From Home) यानी की घरों से काम करना पड़ रहा है. ऐसे में मोबाइल, लैपटाप, टैबलेट के दुकानदारों को काफी फायदा हुआ है. बड़ी स्क्रीन वाले डिवाइसेज की मांग बढ़ गई है. हर कोई अपने काम के लिए अच्छे से अच्छा मोबाइल खरीद रहा है. 

बिक्री ने तोड़े सारे रिकार्ड
तमाम स्कूलों, कॉलेजों और शिक्षण संस्थानों में ऑनलाइन ही क्लास करवाया जा रहा है. ऐसे में लैपटॉप के साथ-साथ स्मार्ट फोन () की काफी बिक्री हुई है. कोरोना काल में तो लैपटॉप की बिक्री ने सारे रिकार्ड को ही तोड़ दिया है. बात करें यूपी के वाराणसी की, तो यहां पर्सनल कंप्यूटर की बिक्री अचानक से बढ़ गई है. मीडिया रिपोर्टस के अनुसार, पिछले साल जुलाई के महीने से दिसंबर तक करीब 50 हजार से 1 लाख तक पर्सनल कंप्यूटर की बिक्री हुई है. 

 40 %  ज्यादा हुई बिक्री 
आपको बता दें,  कोरोना की वजह 2020 अप्रैल-जून के दौरान ही डेस्कटॉप, नोटबुक्स और वर्क स्टेशन की मांग में बड़ी रिकॉर्ड दर्ज की गई थी. इसी वजह से लोगों को, कर्मचारियों को, स्टूडेंट्स को वर्क फ्रॉम होम से काम आसानी से शुरू हो गए थें. बता दें, सालाना आधार पर कंप्यूटर और लैपटाप की बिक्री  40 %  ज्यादा बढ़ी है. सिर्फ इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस ही नहीं बल्कि इटंरनेट की भी काफी डिमांड बढ गई है.