बर्फबारी में फंसे लोगों का रेस्क्यू

सेना ने बर्फ में फंसे 230 लोगों को कश्मीर की गुरेज घाटी से एयरलिफ्ट किया, इनमें 84 स्टूडेंट शामिल
श्रीनगर।
जम्मू-कश्मीर के बांदीपोरा में बर्फबारी के चलते गुरेज घाटी में फंसे 230 यात्रियों को भारतीय सेना ने एयरलिफ्ट कर लिया है। आर्मी ने स्थानीय टीम की मदद से घंटों के अभियान के बाद सभी को सुरक्षित निकाल लिया है। घाटी में फंसे लोगों में छ्व्यस्स्क्च के 84 प्रतियोगी, 103 सीनियर सिटीजन, 13 बच्चे भी थे। इस अभियान में एमआई-17 और आर्यन प्राइवेट हेलीकॉप्टर को लगाया गया। 17 उड़ानों में सभी 230 लोगों को एयरलिफ्ट कर लिया गया। घाटी के इन इलाकों में फंसे 230 लोग
ये लोग बर्फ गिरने के बाद रास्ते बंद होने से गुरेज घाटी के अलग-अलग इलाकों में फंसे थे। 114 लोग गुरेज घाटी के डावर, कंजलवां, नीरू और बडुआब इलाकों में थे, इन्हें एयरलिफ्ट कर बांदीपोरा पहुंचाया गया। वहीं 103 सीनियर सिटीजन और 13 बच्चों को दूसरे इलाकों से एयरलिफ्ट किया गया।
मनोज सिन्हा बोले- स्टूडेंट्स के करियर से खिलवाड़ नहीं: जम्मू-कश्मीर के उपराज्यपाल मनोज सिन्हा इस मसले की अपडेट ले रहे थे। उन्होंने सभी यात्रियों खासतौर से छ्व्यस्स्क्च की परीक्षा देने जा रहे छात्रों को जल्द से जल्द बर्फ से निकालने के निर्देश दिए थे। उपराज्यपाल ने कहा कि अगर उन्हें निकालने में देर होती है तो स्टूडेंट्स का पेपर छूट जाएगा और हम उनके करियर से खिलवाड़ नहीं कर सकते। इसके बाद प्रशासन ने छात्रों सहित सभी यात्रियों को एयरलिफ्ट किया।
छात्रों के एयरलिफ्ट करने की जानकारी मिलने पर मनोज सिन्हा ने प्रतिक्रिया दी है। उन्होंने कहा कि छात्रों को संकट से निकलना बड़ी बात है। सेना ने छात्रों को एयरलिफ्ट कर उनके करियर को सुरक्षित किया है और एक नई उम्मीद जगाई है।