उत्तर प्रदेश के बाबा का असर प्रचार-प्रसार का बजट मप्र में भी 5% तक बढ़ा सकते हैं मामा…

मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री जब-जब उत्तर प्रदेश या उत्तराखंड होकर आते है, वहां से उनकी बैटरी 4 गुना ज्यादा चार्ज हो जाती है। आज शाम के मंत्रिमंडल की अनौपचारिक बैठक में अपने निवास पर मंत्रियों से बतिया रहे थे, सुना रहे थे एक घटना। सूत्रों के अनुसार शिवराज ने बताया कि वे एक दिन किसी आदिवासी जिले में भ्रमण पर थे, वहां उन्होंने देखा कि जिधर से गुजर रहे थे पूरा रास्ता उनके फोटो और होर्डिंग से पट गया था, यहां तक कि पैर रखने की जगह नहीं थी। सूत्रों के अनुसार शिवराज ने मंत्रियों को बताया कि जिधर पब्लिक थी उधर एक भी फोटो नहीं, होर्डिंग नहीं, परन्तु जमाना है प्रचार-प्रसार का। किसी एक मंत्री ने सुझाव दिया कि दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल मीडिया में प्रचार-प्रसार के लिए 15 प्रतिशत तक के बजट का प्रावधान करते है। इसलिए राज्य दर राज्य फैल रहे है। बताते है उक्त मंत्री ने कहा उत्तर प्रदेश के बाबा योगी आदित्यनाथ भी 10 प्रतिशत से अधिक मीडिया में बजट लगाते है, परिणाम देखिए और मध्यप्रदेश में मात्र 1 प्रतिशत, कहां से होगा सरकार की नीतियों एवं योजनाओं का प्रचार। उक्त मंत्री जी की प्रतिक्रिया पर बताते हैं शिवराज को कहना पड़ा मीडिया के लिए 10 प्रतिशत भले ना हो 5 प्रतिशत का बजट होना चाहिए, जिस पर जनसंपर्क आयुक्त अपनी असहमति से पीछे भी नहीं रहे, लेकिन मुख्यमंत्री ने उन्हें हवा में उड़ा दिया। उल्लेखनीय है कि उपरोक्त प्रस्ताव के पीछे संभवत: कृषि मंत्री कमल पटेल की अहम भूमिका थी जिसे सीएम ने हरी झंडी दे दी है। अखबार वालों को भी इस खबर से खुश होना चाहिए। खबरची…