राष्ट्रपति का विश्व क्षयरोग दिवस की पूर्व संध्या पर संदेश

नई दिल्ली। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने विश्व क्षयरोग दिवस, जो कि हर वर्ष 24 मार्च को मनाया जाता है, की पूर्व संध्या पर संदेश देते हुए कहा- ‘मुझे यह जानकर प्रसन्नता हो रही है कि क्षयरोग (टीबी) के बारे में जन जागरूकता बढ़ाने के उद्देश्य से 24 मार्च 2022 को विश्व क्षयरोग दिवस मनाया जा रहा है। वर्ष 1882 में इसी दिन, डॉ. रॉबर्ट कोच ने टीबी फैलाने वाले जीवाणु की खोज की घोषणा की थी। इस खोज के कारण टीबी जैसी घातक बीमारी के निदान और उपचार का मार्ग प्रशस्त हो सका। कोविड-19 के प्रकोप और कोरोनावायरस के नए वैरिएंट के उभार से देश की स्वास्थ्य देखभाल प्रणाली पर अभूतपूर्व दबाव आया। इसके कारण स्वास्थ्य देखभाल से जुड़े बुनियादी ढांचे के समक्ष असाधारण चुनौती खड़ी हो गई। केन्द्र और राज्य सरकारों के साथ-साथ हमारे स्वास्थ्य कर्मियों के संयुक्त प्रयासों से दुनिया का सबसे बड़ा टीकाकरण अभियान संचालित होने से महामारी के विरुद्ध हमारी लड़ाई मजबूत हुई।
मुझे यह जानकर प्रसन्नता हो रही है कि राष्ट्रीय टीबी उन्मूलन कार्यक्रम के अंतर्गत क्षयरोग के निवारण के प्रभावी उपायों को लागू करने में तत्परता दिखाई गई और बदलते परिवेश के अनुकूल कार्यनीति बदल कर यह सुनिश्चित किया गया कि महामारी के कारण उत्पन्न अनेक चुनौतियों के बावजूद देश भर में टीबी के मरीजों को निरंतर इलाज उपलब्ध होता रहे।