युवा कांग्रेस के कार्यकर्ताओं ने पीईबी के समक्ष किया विरोध-प्रदर्शन

भोपाल, विशेष संवाददाता
एमपी प्रोफेशनल एग्जामिनेशन बोर्ड (पीईबी) द्वारा आयोजित प्राथमिक शिक्षक पात्रता परीक्षा का स्क्रीनशाट वायरल होने आर आरक्षक भर्ती परीक्षा में धांधली की शिकायतों के बाद कांग्रेस इस मुद्दे पर शिवराज सरकार के खिलाफ लगातार हमलावर है। गुरुवार को राजधानी में प्रदेश युवा कांग्रेस के कार्यकर्ताओं ने पीईबी के गेट पर पहुंचकर विरोध प्रदर्शन किया और सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की।
युवा कांग्रेस के कार्यकर्ता जैसे ही पीइबी कार्यालय पहुंचे, वहां तैनात पुलिस बल ने कार्यकर्ताओं को गेट पर रोक लिया। इसके बाद भी कार्यकर्ता अंदर जाने का प्रयास कर रहे थे तो पुलिस बल ने उन्हें रोका और करीब 25 कार्यकताओं को गिरफ्तार कर उन्हें जेल भेज दिया। प्रदर्शनकारियों ने मांग की है कि पीईबी द्वारा आयोजित परीक्षाओं की निष्?पक्ष एजेंसी से जांच कराई जाए। युवा कांग्रेस के प्रदर्शनकारियों ने कहा कि प्राथमिक शिक्षक पात्रता परीक्षा (एमपीटीईटी) की परीक्षा का 25 मार्च को आयोजित पेपर का स्क्रीन का स्क्रीन शॉट वायरल हुआ था। लिहाजा, इस परीक्षा को निरस्त किया जाए। इस मामले को लेकर युवा कांग्रेस ने व्यापमं महाघोटाला पार्ट-3 एवं व्यापम महाघोटाला सीरीज़ का नया चरण बताते हुए पीईबी के सामने नारेबाजी कर विरोध प्रदर्शन किया। मप्र युवा कांग्रेस के मीडिया प्रभारी विवेक त्रिपाठी ने कहा कि प्रदेश सरकार बेरोजगार युवाओं को रोजगार के अवसर देने में असमर्थ है। जो भी परीक्षाएं पीईबी आयोजित करवाता भी है, तो कोई न कोई नया फर्जीवाड़ा निकल कर सामने आ ही जाता है। इससे प्रदेश के प्रतिभावान युवाओं की प्रतिभा का हनन हो रहा है।

शिक्षक पात्रता परीक्षा का पेपर एक एजेंट के मोबाइल में कैसे आया, जबकि सेंटर से पेपर बाहर नहीं लाया जा सकता है। यह व्यापमं महाघोटाले की सीरीज़ का ही अगला चरण है। युवा कांग्रेस ने कहा की इतने गंभीर आरोपों के बाद भी मध्यप्रदेश सरकार, पीईबी या मध्य प्रदेश स्कूल शिक्षा विभाग द्वारा कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है। राज्य सरकार की चुप्पी कहीं न कहीं तथाकथित फर्जीवाड़ों पर मुहर लगाती है। एनएसयूआइ ने प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से एमपीटीईटी पेपर वायरल मामले में जवाब मांगा और मामले की जांच सीबीआई से करवाने की मांग की है। युवा कांग्रेस का कहना है कि बेरोजगारी और भ्रष्टाचार के मामले में शिवराज सिंह चौहान की सरकारी ने देशभर में पहला स्थान हासिल कर लिया है। चाहे आरक्षक भर्ती परीक्षा हो या शिक्षक पात्रता परीक्षा में फर्जीवाड़ा रूकने का नाम ही नहीं ले रहा है। प्रदर्शन के दौरान मुख्य रूप से अरुण सिंह राजपूत, आयुष प्रताप सिंह, देव अवस्थी, सुयश श्रीवास्तव सहित अन्य शामिल थे।