प्रदेश में स्टेम सेल थैरेपी आधारित बोन मैरो ट्रांसप्लांट की

4 मेडिकल कॉलेज से होगी शुरुआत : विश्वास सारंग
भोपाल।
मध्यप्रदेश के चार मेडिकल कॉलेज में 6 महीने में स्टेम सेल थैरेपी आधारित बोन मैरो ट्रांसप्लांट एवं पीडियाट्रिक कैंसर यूनिट की स्थापना होगी। इसके एक साल में 20 बोन मैरो ट्रासंप्लांट करने का लक्ष्य तय किया गया है। चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास कैलाश सारंग ने बताया कि प्रदेश में स्टेम सेल थैरेपी आधारित बोन मैरो ट्रांसप्लांट एवं पीडियाट्रिक कैंसर यूनिट की स्थापना की जा रही है। मध्यप्रदेश में चार मेडिकल कॉलेज भोपाल, जबलपुर, ग्वालियर और रीवा में यह सुविधा प्रारंभ होगी। लगभग 6 माह में इसे विकसित किया जायेगा। प्रदेश में बच्चों के जेनेटिक बीमारियां जैसे सिकल सेल एनीमिया, एप्लास्टिक एनीमिया, थैलीसीमिया तथा कैंसर ल्यूकीमिया, मल्टीपल माईलोमा, नॉन हॉजकिन्स लिंफोमा के उपचार के लिए बोनमैरो ट्रांसप्लांट यूनिट की स्थापना की जाएगी। प्रथम चरण में गांधी चिकित्सा महाविद्यालय में 06 बिस्तरीय बोनमैरो ट्रांसप्लांट यूनिट एवं 24 बिस्तरीय पीडियाट्रिक कैंसर यूनिट की स्थापना की जाएगी। इस यूनिट के माध्यम से विश्व स्तरीय चिकित्सकीय सुविधा उपलब्ध कराई जाएगी। इसमें स्वयं के (ऑटोलॉगस) स्टेम सेल ग्राफ्टिंग एवं अन्य व्यक्ति के (एलोजेनिक) बोनमैरो ट्रांसप्लांट किया जाएगा।