आसाराम मामला: पीडि़ता को धमकी

शाहजहांपुर। आसाराम की सजा को 4 साल पूरे हो गए हैं, लेकिन आज भी पीडि़त परिवार खुलकर बाजारों में नहीं घूम पाता। चार साल में 5 से ज्यादा बार धमकियां मिल चुकी हैं, इसलिए परिवार को हमले का डर हर वक्त सताता रहता है। पीडि़ता सदमे से किसी तरह उबरी जरूर है, लेकिन दहशत पूरी तरह से खत्म नहीं हुई है। इस मामले में पीडि़ता के पिता ही बात करते हैं, बेटी कम बात करती है। पीडि़ता से जब घटना के बारे में बात की जाती है तो वह कुछ देर बाद ही रोने लगती है। इस बात के अलावा दूसरी बातों पर बोलती है। पढ़ाई पर कहती है कि आईएएस बनूंगी। बीए कंप्लीट कर लिया है। 80 प्रतिशत से ज्यादा नंबर आए हैं। अब एमए फाइनल में है, पूरी मेहनत के साथ पढ़ाई कर रही हूं।
फोन रखने से डर लगता है: पीडि़ता ने मोबाइल से दूरी बनाकर रखी है। उसका कहना है कि लगातार मिल रहीं धमकियों के कारण स्मार्ट फोन नहीं रखती, और न ही किसी भी सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर एक्टिव है।? इससे पढ़ाई पर भी असर पड़ता है।