नेता हो या नौकरशाह…

कुर्सी किसको प्यारी नहीं होती है। कुर्सी पाने के लिए ये नेता और नौकरशाह हर
तरह की जुगत भिड़ा देने मे पीछे नहीं रहते हैं। एक बहुत बड़े नौकरशाह भी कुछ
इसी जुगाड़ में लगे है। दरअसल, प्रदेश को जल्द ही नया प्रशासनिक मुखिया
मिलने वाला है। वजह है- मुख्य सचिव इकबाल सिंह बैंस का रिटायरमेंट।
हालांकि, इसमें अभी 4 महीने बाकी है, लेकिन दावेदार अभी से अपनी अपनी
लॉबिंग में जुट गए हैं। एक नौकर शाह को तो इतना भरोसा है कि उन्होंने अपने
हाव-भाव ही बदल लिए हैं। ताकि इस कुर्सी पर बैठने के बाद कोई यह ना कहे कि
सरकार बदले-बदले से नजर आ रहे हैं। सुना है कि अपने से सीनियर को पछाड़
कर इस कुर्सी पर बैठने के लिए प्रबल दावेदार ने सरकार, संगठन और संघ तक
अपनी गोटियां सही खानों में बैठानी शुरू कर दी है। इसकी वजह इन नौकरशाह
के एक करीबी ने बताई कि अब केवल सरकार का खास होने से काम नहीं
चलेगा। अगले साल विधानसभा के चुनाव होने है। लिहाजा मुख्य सचिव कौन
बनेगा? यह तो दिल्ली में ही तय होगा, इसलिये यहां कितनी भी जुगत लगा ले,
होना तो कुछ नहीं है..। बता दें कि यह वही नौकरशाह है, जिसकी कमलनाथ
सरकार में भी पकड़ बहुत मजबूत बताई जाती…। खबरची