राहुल गांधी से बढती दिग्विजय सिंह की करीबी का मतलब…

मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह का राजनीतिक कद बढऩे के आसार नजर आने लगे है। राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा की कार्ययोजना को अकार देने के बाद अब श्रीमति सोनिया गांधी ने उन्हे भारतीय राष्ट्रीय कांगे्रस के अध्यक्ष पद के चुनाव को लेकर अहम भूमिका निभाने का निर्देश दिया है। सूत्रों के अनुसार दिग्विजय सिंह जब पहली बार 1993 में मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री बने तब और दूसरी बार 2003 में सड़क, बिजली और पानी को लेकर सरकार गंवाई तब उनके व्यवहार को लेकर श्रीमति सोनिया गांधी के मन में दिग्विजय के प्रति अनुराग बढ़ गया। दिग्विजय सिंह ने कहा था वे 10 साल कोई पद नहीं लेगे, और उन्होनें श्रीमति सोनिया गांधी के बार-बार कहने पर भी कोई पद नहीं लिया इसी छाप के चलते दिग्विजय सिंह श्रीमति सोनिया गांधी के काफी करीब आये। पार्टी में महासचिव बने और फिर बाद में उन्हे श्रीमति गांधी ने राज्यसभा में सांसद बनाकर पुरस्कृत कर दिया। सूत्रों का दावा है कि श्रीमति गांधी ने दिग्विजय सिंह को कांगे्रस के सबसे लोकप्रिय नेता राहुल गांधी के सांथ कदम से कदम मिलाकर चलते रहने का निर्देश दिया है। दिग्विजय सिंह की श्रीमति सोनिया गांधी से बढ़ती करीबी को लेकर राष्ट्रीय स्तर पर कांग्रेस में बेचैनी है। सूत्रों का दावा है कि विवादों के चलते यदि अशोक गहलोद कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष नहीं बन पाए तो यदि दिग्विजय सिंह का नाम अध्यक्ष पद के लिए राहुल गांधी ने ही प्रस्तावित कर दिया तो चौकिएगा मत…. -खबरची