कर्नाटक के राज्यपाल थावरचंद गहलोत कोरोना पॉजिटिव

मध्यप्रदेश के पूर्व केन्द्रीय मंत्री भारतीय जनता पार्टी के पूर्व राष्ट्रीय उपाध्यक्ष तथा अब कर्नाटक जैसे बड़े राज्य के राज्यपाल थावरचंद गहलोत कोरोना पॉजिटिव हो गये है। कर्नाटक के राज्यपाल को चिकित्सकों ने 14 दिनों के लिएक्वारंटाइन रहने की सलाह दी है। राष्ट्रीय हिन्दी से दूरभाष पर कर्नाटक के राज्यपाल थावरचंद गहलोत ने अपने कोरोना पॉजिटिव होने की पुष्टि स्वयं की है। देश की राजनीति में डाउन-टू-अर्थ माने जाने वाले राजनेता थावरचंद गहलोत आरक्षित वर्ग के भारतीय जनता पार्टी में मल्लिकार्जुन खडगे की तरह है। ना जाने कितनी बार विधायक का चुनाव जीते, ना जाने कितनी बार मंत्री रहे, और बाद में केन्द्रीय मंत्री भी रहे, थावरचंद गहलोत को अहंकार नाम की वस्तु ने आज तक छुआ नही। आश्चर्यचकित करने वाला वाकया यह है कि मध्यप्रदेश के किसी भी व्यक्ति का यदि मोबाईल पर कॉल उन्हें आता है तो भी वे स्वयं उठाते है, और कोशिश करते है कि उज्जैन, नागदा, रतलाम का हाल जरूर पूछा जाये। और जब उन्हें नागदा का हाल बताया जाता है तो वे खुश होते है। राष्ट्रीय हिन्दी मेल के साथ आज ऐसा ही हुआ। सौजन्य मुलाकात का समय निर्धारित होना था इससे पहले उन्हें डॉक्टरों ने कोरोना पॉजिटिव घोषित कर दिया। यह कोई अतिश्योक्ति नहीं है लेकिन राज्यपाल थावरचंद गहलोत की सज्जनता की पराकाष्ठा है, उन्होंने मोबाइल पर स्वयं सूचित किया कि वे व्यक्तिगत रूप से 14 दिनों तक नहीं मिलेंगे। महामहिम राज्यपाल ने कहा उन्हें आश्चर्य है कि वेक्सीनेशन के दोनों डोज और बुस्टर का तीसरा डोज लगने के बाद भी वे कोरोना पॉजिटिव हो गये। राष्ट्रीय हिन्दी मेल परिवार थावरचंद गहलोत के शीघ्र स्वस्थ होने की कामना करता है।
“बड़े बड़े लोगों की बातें” के लेखक इस समाचार पत्र समूह के प्रधान संपादक हैं।