काजल की कोठरी में पहुंच गए फैज अहमद किदवइ

मध्यप्रदेश में हाल ही में हुई एक बड़ी प्रशासनिक सर्जरी में सचिव से लेकर अतिरिक्त मुख्य सचिव, एसडीएम से लेकर कलेक्टर तक बदल दिए गए। लेकिन खाद्य एवं नागरिक आर्पूति विभाग में पदस्थ प्रमुख सचिव फैज अहमद किदवई को जिस विभाग में भेजा गया है, उस विभाग को काजल की कोठरी कहा जाता है, जानकारों का कहना है कि परिवहन विभाग एक ऐसा महकमा है, जहां पर कोई भी मंत्री, अधिकारी या नौकरशाह किसी से एक रुपए भी नहीं मांगे, तो भी वह लांछन और अफवाहों से बच नहीं सकता। बताया जाता है कि परिवहन विभाग के मंत्री को तो सāाारूढ़ पार्टी का आर्थिक संचालन करना पड़ता है और यह ज्मिेदारी प्रत्येक सरकार में होती है, चाहें सरकार किसी दल की हो। मंत्री बेचारे की तो कई बार दुर्गती हो जाती है, पार्टी भी चलाएं, अपना घर भी चलाएं और तो और पार्टी के कार्यकर्ताओं को भी चलाएं, परिवहन मंत्री तो तनाव में ही रहता है। लेकिन उāार प्रदेश के प्रख्यात समाजवादी खाटी ईमानदार राजनेता रफी अहमद किदवई के परिवार में पैदा हुए डाउन-टू-अर्थ फैज अहमद किदवई को शिवराज सरकार ने जेल एवं परिवहन विभाग का प्रमुख सचिव बना दिया है। जानकारों का कहना है कि रफी अहमद किदवई साहब तो एक-एक रुपए जोड़कर अस्पताल बना दिए थे, इतने ईमानदार थे और वही खून फैज अहमद किदवई का है। तो फिर ये बेचारे काजल की कोठरी में जाकर क्या करेंगे। इस सवाल का उāार खोजने निकले हमारे प्रतिनिधि ने फैज अहमद किदवई के दोस्तों से पता लगाया कि परिवहन महकमे को फैज साहब सुधार कर रख देंगे। उनके दोस्तों ने तो यहां तक बताया कि नई परिवहन नीति को लागू करने के लिए फैज अहमद किदवई पूरे मध्यप्रदेश का एक दौरा जरूर करेंगे…। खबरची