देशभर के 600 विशेषज्ञ डॉक्टर राहत शिविर में दे रहे अपनी सेवाएं

विशेष रिपोर्ट नरसिंहपुर से: विजय कुमार दास (मो. 9617565371)
मध्यप्रदेश की राजनीति में कुछ बड़े लोग ऐसे भी हैं, जिन्हें राजनीति के अलावा समाज सेवा के लिए शिखर की लोकप्रियता हासिल है। इन्हीं लोगों में एक जननायक है सुप्रीम कोर्ट के विद्वान अधिवक्ता और कांग्रेस से दूसरी बार के राजसभा सदस्य विवेक तन्खा। आश्चर्य एवं चौंकाने वाली बात यह है कि गरीबों का इलाज कराने के लिए विवेक तन्खा मेडिकल के्प और राहत शिविर लगवाते है। लेकिन बगैर किसी से चंदा लिए और किसी भी सरकारी मदद के बिना राहत शिविरों में हजारों गरीबों का इलाज करवाते है, विवेक तन्खा की शोहरत की खूबी यह है कि इनके जननायक के रूप में विश्वसनीयता की छवि भी अद्भुत है, वे जहां-जहां जिन अस्पतालों में सिर्फ फोन करते है, वहां-वहां के बड़े से बड़े डॉक्टर इनके बुलावे पर राहत शिविरों में तथा मेडिकल के्पों में गरीबों का मुफ्त में इलाज करने चले आते है। बता दें कि इनके ससुर स्वर्गीय कर्नल अजय नारायण मुश्रान तत्कालिन दिग्विजय सिंह की सरकार में विāा मंत्री थे। और जब तक वे राजनीति में रहे उनका हमेशा यह लक्ष्य रहता था कि गरीबों की मदद करना सरकार का पहला फर्ज है, जिसे पूरा करने के लिए वे दिग्विजय सिंह से लड़ भी लेते थे। और तो और दिग्विजय सिंह के मंत्रिमंडल में कर्नल अजय नारायण मुश्रान एकमात्र ऐसे मंत्री थे, जो मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह को दिग्विजय कहकर बुलाते थे। आज उन्हीं स्वर्गीय अजय नारायण मुश्रान के दामाद विवेक तन्खा ने उनकी 90 वर्ष की जयंती पर नरसिंहपुर जिले में देश भर के 600 विशेषज्ञ डॉक्टरों को बुलाकर मेडिकल के्प लगवाया है। जिसका शुभांरभ तेंदुखेड़ा में कर्नल अजय नारायण की पत्नी श्रीमती मुश्रान के करकमलों से हुआ। चिरायु मेडिकल कॉलेज के अध्यक्ष डॉ. अजय गोयनका, अरविंदो मेडिकल कॉलेज के अध्यक्ष डॉ. विनोद भंडारी ने अपने-अपने मेडिकल कॉलेजों से 150-150 डॉक्टरों की टीम भेजी। स्मरण हो कि ऐसे राहत शिविरों की शुरूआत विवेक तन्खा ने आदिवासी जिला मंडला से की थी, वहां पर उन्होनें हृदय रोग से पीडि़त 14-15 साल के बच्चों के हार्ट का ऑपरेशन मुफ्त में करवाया था। और तो और गरीब आदिवासियों में कैंसर तथा गठान की बीमारियों से निजात पाने में भरपूर मदद पहुंचाई। आज तेंदुखेड़ा में लगे शिविर में लगभग 25 हजार लोग अपना इलज कराने आये। शिविर के साथ-साथ नरसिंहपुर में डॉक्टरों को तनावमुक्त रहने के लिए तलत अजीज के गजल का प्रोग्राम भी रखा गया है। समझा जाता है कि आज नरसिंहपुर में कर्नल साहाब की याद में लगाये गये इस राहत शिविर/मेडिकल कै्प में कम से कम 600 विशेषज्ञ डॉक्टरों ने स्पूर्ण मेडिकल नर्सिंग स्टॉप के साथ मरीजों की जांच की और उनके बेहतर ईलाज के लिए जो संभव इलाज हो सकता है इसे सुनिश्चित किया। बता दें कि इस शिविर में मुंबई, दिल्ली, चैन्नई, बैंगलोर, अलग-अलग जगह से भी डॉक्टरों ने भागीदारी की है। बताया जाता है कि मुंबई की एक कंपनी जिसका नाम डोजी है, ने एक ऐसा डिवाइस बनाया है जो मरीज के बिस्तर में लगाने से मरीज की सारी बीमारियों को स्केन करके बता देता है। इस डोजी डिवाइस का आविष्कार उस समय किया था, जब कोरोना काल में मरीज को छूने की मनाही थी और उन्हें आईसोलेशन में रखा जा रहा था। इस शिविर में डोजी की डिवाइस का प्रदर्शन चर्चा का विषय बना हुआ है, चिरायु मेडिकल कॉलेज के अध्यक्ष डॉ. गोयनका ने इस डिवाइस को सरकारी अस्पतालों के लिए भी अत्यंत उपयोगी बताया है। इस विशेष रिपोर्ट का लब्बोलुआब यह है कि राज्यसभा सदस्य विवेक तन्खा ने अपने ससुर स्वर्गीय कर्नल अजय नारायण मुश्रान के दामाद होने का फर्ज बखूबी निभाया है। देश की आर्मी के सेंकेड चीफ स्वर्गीय कर्नल अजय नारायण मुश्रान की जन्मतिथि के अवसर पर उन्हें श्रद्धांजलि देने बड़ी-बड़ी हस्तियां पहुंची तो इसमें आश्चर्यजनक कुछ भी नहीं था…।