शिवराज जीते, गोपाल हारे सड़कों के गढ्डे भरे जाएंगे

मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि, मध्यप्रदेश में सड़कों की खराब हालत को हर कीमत पर ठीक किया जाएगा। वाक्या है मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने जब राजधानी भोपाल की सड़कों का एक दिन औचक निरीक्षण किया, तो उन्हें भोपाल की सड़कों में बड़े-बड़े गढ्डे मिले। राजधानी के एक प्रमुख समाचार पत्र ने मध्यप्रदेश की सड़कों में गढ्डों का लगातार सूक्ष्म विश्लेषण किया था, तब तत्कालीन प्रमुख सचिव, लोक निर्माण विभाग के नीरज मंडलोई ने नई तकनीक से पुरानी सड़कों के गढ्ड़ो को भरने के लिए एक आरएफटी बनवाई तथा टेंडर को सार्वजनिक करते हुए ऑनलाईन अपलोड़ भी कर दिया। लेकिन यह बात लोक निर्माण विभाग के मंत्री गोपाल भार्गव के व्यक्तिगत सचिवालय को नहीं जमी, तो उन्होंने मुख्यमंत्री के निर्देश पर नीरज मंडलोई द्वारा गढ्डे भरने की उच्च तकनीक योजना पर पानी फेरते हुए टेंडर को निरस्त कर दिया और कहा कि, सड़कों को ठीक करने के लिए लोक निर्माण विभाग के पास बजट नहीं है। सूत्रों का कहना है कि, गोपाल भार्गव के बयान से मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान बेहद नाराज थे। इसलिए मुख्यमंत्री ने मुख्य सचिव इकबाल सिंह बैंस से साफ शब्दों में यह कहा कि, सड़कों को ठीक करने के लिए यदि बजट नहीं है, तो सबसे पहले बजट का प्रावधान करो और सुनिश्चित करो की मध्यप्रदेश की सड़कों के गढ्ड़े नई तकनीक से ही ठीक होने चाहिए, बार-बार सड़कों के उखडऩे से सरकार की छबि उखड़ जाती है। सूत्रों का मानना है कि मुख्यमंत्री के सख्त निर्देश के बाद लोक निर्माण विभाग के प्रमुख सचिव ने सड़कों को ठीक करने के लिए, गढ्ड़ों को पाटने के लिए वित्त विभाग को समुचित बजट का प्रस्ताव आज भेज दिया है, जिसकी स्वीकृति एक सप्ताह के भीतर प्राप्त हो जाएगी। कुल मिलाकर बड़े-बड़े लोगों की बातों में जिद्दी मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान आज जीत गये है और बेचारे गोपाल भार्गव को हार का सामना करना पड़ा है…। खबरची