भाजपा की राष्ट्रीय कार्य समिति

सिंधिया-शिवराज, नरेन्द्र तोमर-नरोत्तम मिश्रा, प्रहलाद पटेल-कमल पटेल, वीडी शर्मा की भूमिकाओं पर होगी चर्चा और एक दर्जन मंत्रियों का रिपोर्ट
मध्यप्रदेश की व्यवसायिक राजधानी इंदौर में प्रवासी भारतीय सम्मलेन तथा ग्लोवल इन्वेस्टर्स मीट की सफलता चरम पर है, जिसका एहसास करके प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी इंदौर में स्वयं अपनी आँखो से कर लिया है। लेकिन यहां से लौटने के बाद प्रधानमंत्री द्वारा लिये जाने वाले फैसलों के केन्द्र बिन्दु में अब सबसे पहले मध्यप्रदेश को ही बताया जा रहा है। सूत्रों के अनुसार 17, 18 और 19 जनवरी को नई दिल्ली में भारतीय जनता पार्टी की संभावित कार्यसमिति में 2023 में जिन राज्यों में विधानसभा के चुनाव होने है, उन राज्यों में मध्यप्रदेश राष्ट्रीय कार्यसमिति का प्रमुख मुद्दा बन गया है। एक अपुष्ट जानकारी के अनुसार मध्यप्रदेश के भाजपा नेताओं में आपसी समझ को बढ़ाने के लिए, राष्ट्रीय कार्यसमिति मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, नागरिक उड्डयन मंत्री महाराजा ज्योतिरादित्य सिंधिया, कृषि मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर, जल शक्ति मंत्री प्रहलाद सिंह पटेल, गृह मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष वी.डी. शर्मा कृषि मंत्री कमल पटेल की भूमिकाओं पर बदलाव के निर्णय लिये जा सकते है। सूत्रों का यह भी कहना है कि, लोक निर्माण मंत्री गोपाल भार्गव, नगरीय प्रशासन मंत्री भूपेन्द्र सिंह, परिवहन मंत्री गोविन्द सिंह राजपूत तथा राष्ट्रीय कार्यसमिति शिवराज मंत्रिमण्डल के एक दर्जन मंत्रियों की रिपोर्ट कार्ड को लेकर भी निर्णायक कदम उठा सकती है। बताया जाता है कि, प्रवासी भारतीय सम्मलेन में शिवराज सरकार के कन्विक्शन से शिवराज के खिलाफ एंटी इन्कमवेंसी फेक्टर में कुछ कमी आने के संकेत को उपरोक्त तीनों नेताओं ने महसूस किया है। परन्तु राष्ट्रीय कार्य समिति मध्यप्रदेश में ओबीसी फेक्टर का जरूर ध्यान रखेगी, ऐसा माना जा रहा है…। खबरची