पार्टी बोलेगी तो कमलनाथ के खिलाफ छिंदवाड़ा से लडूंगा: गौरीशंकर

भोपाल: बीजेपी के कद्दावर नेता और पूर्व मंत्री गौरीशंकर बिसेन ने प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष और पूर्व सीएम कमलनाथ के खिलाफ चुनाव लडऩे का ऐलान किया है। बालाघाट में परिवहन विभाग के अफसरों को अपशब्द कहते हुए बिसेन का वीडियो सामने आया था। इसके बाद भोपाल में सोमवार को बिसेन ने घटना पर माफी मांगी। साथ ही, उन्होंने कमलनाथ के उस बयान पर भी प्रतिक्रिया दी, जिसमें नाथ ने कहा था कि उनका (बिसेन) का यह स्वभाव रहा है, ये उनकी सोच को दर्शाता है। भोपाल में अपने आवास पर पत्रकारों से चर्चा में बिसेन ने कहा- भाजपा का राष्ट्रीय और प्रदेश नेतृत्व सर्वस्मति से फैसला लेकर कहेगा कि गौरीशंकर चुनाव लडऩा है तो मैं जरूर लडूंगा। मुझे पार्टी जहां से कहेगी, मैं वहां से चुनाव लडूंगा। सिर्फ बालाघाट से विधानसभा का चुनाव नहीं लडूंगा,क्योंकि 13 बार मैं वहां से विधानसभा, लोकसभा के चुनाव में जनता ने मुझे वोट दिया है। एक बार मेरी पत्नी को टिकट दिया। अब 14 बार हो गया, बहुत हो गया नई पीढ़ी को मौका मिलना चाहिए। कमलनाथ के बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए बिसेन ने कहा- मैं कमलनाथ का बहुत स्मान करता हूं, मुझे इस बात की खुशी है कि आजादी के अमृत महोत्सव के मौके पर 13 तारीख को जब मैंने उन्हें आमंत्रित किया था तो वह मेरे घर आए और डेढ़ घंटे मेरे साथ रहे। उन्होंने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह से कहा कि आपने एक काम अच्छा किया। भाऊ (बिसेन) को 10 साल छिंदवाड़ा का प्रभारी मंत्री बनाए रखा था। मैं उनकी इज्जत और स्मान करता हूं। 10 साल में मेरा (कमलनाथ) और उनके (बिसेन) के बीच कभी विवाद नहीं हुआ, यदि मुझसे कमलनाथ जी पूछ लेते तो शायद वे ऐसा बयान नहीं देते। जो घटना हुई है उसमें ऐसा कोई विषय ही नहीं है। आरटीओ और एआरटीओ व इस घटना के दूसरे पक्षी दोनों अनुसूचित जाति यानी एससी वर्ग से हैं। गढ़पाले के बड़े पिताजी और हम क्लासमेट रहे हैं। बालाघाट स्टेट बैंक में वह सर्विस में थे बालाघाट कलेक्टर के भतीजे बहुत अच्छे अधिकारी हैं।