8वां भारतीय अंतरराष्ट्रीय साइंस फेस्टिवल आज से

भोपाल: मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान भारत अन्तर्राष्ट्रीय विज्ञान महोत्सव का शुभारंभ 21 जनवरी को प्रात: 10:30 बजे मौलाना आजाद नेशनल इंस्टीट्यूट आफ टेक्नोलॉजी मेनिट में करेंगे। केंद्रीय विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री डॉ. जितेन्द्र सिंह तथा विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी और एमएसएमई मंत्री ओमप्रकाश सखलेचा महोत्सव में विशेष अतिथि के रूप में उपस्थित रहेंगे। यह महोत्सव केन्द्रीय जैव प्रौद्योगिकी मंत्रालय, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग, पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय, वैज्ञानिक एवं औद्योगिक अनुसंधान परिषद् (सीएसआईआर), अंतरिक्ष विभाग, परमाणु ऊर्जा विभाग, विज्ञान भारती (विभा), मौलाना आजाद नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलाजी (मेनिट) के तत्वावधान में किया जा रहा है। मध्यप्रदेश शासन इस संपूर्ण कार्यक्रम में सहयोगी और म.प्र. विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी परिषद् नोडल एजेन्सी है। महोत्सव में केन्द्र सरकार के प्रमुख वैज्ञानिक सलाहकार प्रो. अजय कुमार सूद, सचिव जैव प्रौद्योगिकी डॉ. राजेश एस. गोखले, सचिव पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय डॉ. एम. रविचन्द्रन, सचिव विज्ञान भारती डॉ. सुधीर भदौरिया, महानिदेशक, सीएसआईआर और सचिव डीएसआईआर डॉ. (श्रीमती) एन. कलैसेल्वी, वैज्ञानिक एच डीबीटी भारत सरकार डॉ. संजय मिश्रा विशेष रूप से उपस्थित रहेंगे। वर्ष 2015 से प्रति वर्ष विज्ञान महोत्सव मनाने का मुख्य उद्देश्य वैज्ञानिक और प्रौद्योगिकी का उत्सव मनाना और आम लोगों को इस आयोजन से जोडऩा है। साथ ही आमजन के जीवन में आनंद, उल्लास और स्वस्थ मनोरंजन तथा स्कूली बच्चों में क्रिएटिविटी और नवाचारों को प्रोत्साहित करना रहा है। मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल में पहली बार हो रहे विज्ञान महोत्सव में देश के विभिन्न अंचल से 8 हजार से अधिक प्रतिनिधि शामिल होंगे। महोत्सव में नामचीन वैज्ञानिक, अनुसंधानकर्ता, यूनिवर्सिटी, कॉलेज और स्कूलों के विद्यार्थी, शिक्षक तथा उद्योग जगत के विशेषज्ञ भाग लेंगे। संभावना है कि लगभग एक लाख लोग इस महोत्सव के साक्षी बनेंगे। आजादी के अमृतकाल में हो रहे इस महोत्सव मुख्य विषय ‘विज्ञान, प्रौद्योगिकी और नवाचार के साथ अमृतकाल की ओर अग्रसर’ है। महोत्सव में इस बार 15 गतिविधियों का आयोजन होगा। पहले दिन प्रसिद्ध सूफी गायक कैलाश खेर का गायन भी होगा ।